योग के प्रमुख 10 आसन और उनके लाभ Yogasana in Hindi

Loading…


[wp_quiz id=”507″]

Yog and Yogaasan and Unke Faayde Hindi Me

Different Types of Yoga and Their Many Health Benefits

Yoga Poses in Hindi | कुछ योगासनों का वर्गीकरण

आज हम अपने friends के लिए योग के 10 आसन और उनके advantage को बताने जा रहे हैं।
(1) स्वास्तिकासन – इस आसन में पंति मारकर दोनों हाथों को पैर के घुटने पर बैठे हैं। तथा रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें तथा ध्यान की मुद्रा में बैठकर जितना हो सके अपनी सास को अंदर की तरफ खींचे। बाद में यह process पैरों को बदलकर भी करें।
advantage – (a) पैरों का दर्द दूर हो जाता है।
(b) ज्यादा पसीना आना बंद हो जाता है।
(c) पैरों का अधिक hot and cold रहना बंद हो जाता है।
(2) गोमुखासन – इस आसन में दाएं पैर को मोड़कर बाएं पैर पर इस प्रकार रखते हैं। की घुटना एक सीध में आ जाए। अब घुटने की तरफ वाले हाथ के ऊपर से पीठ की तरफ मोडा तथा दूसरे हाथ को नीचे की तरफ से मोडे। तथा एक दूसरे को पकड़ कर लगभग 1 minute तक बैठे हैं। ऐसा ही दूसरी तरफ भी करें।
advantage – (a) धातु रोग, बहुमूत्र तथा females के रोग में लाभ मिलता है।
(b) गठिया जैसे रोग ठीक हो जाते हैं।
(c) यकृत, गुरुदेव वक्ष स्थल को बल मिलता है।
(d) आतिफ वृद्धि तथा अंडकोष में growth होती है।
(3) गोरक्षासन- इस आसन में दोनों पैरों के पंजों को आपस में मिलाकर सिवनी नाड़ी के पास टिका कर ध्यान की मुद्रा में बैठ जाएं।
advantage – (a) इंद्रियों की चंचलता समाप्त हो जाती है मन को शांति मिलती है।
(b) मांसपेशियों में blood का प्रवाह अच्छी तरह से होता है।
(c) ब्रह्मचर्य कायम रखने में बल मिलता है।
(4) अर्ध मत्स्यासन- इस आसन में बाएं पैर को मोड़कर दाएं पैर को उसके ऊपर से निकाल कर बैठे हैं। तथा बाएं पैर की एड़ी को दाएं हाथ से पकड़े तथा दाएं हाथ को पीठ के पीछे से घुमाकर पीछे की ओर देखें। किसी प्रकार दूसरी तरफ से करें।
advantage – (a) मधुमेह में लाभकारी होता है।
(b) कमर दर्द में लाभ होता है।
(c) पेट विकारों को दूर करता है।
(d) blood संचार को सुचारु रुप से चलाता है।
(5) सुखासन- इस आसन में सीधा पीठ के बल लेटकर ध्यान की मुद्रा में चले जाना होता है। इसको 3 से 5 minutes के लिए करते हैं। ज्यादा करने पर नींद आने की संभावना बढ़ जाती है।
advantage – (a) मन शांत होता है।
(b) इंद्रियों की चंचलता खत्म हो जाती है।
(c) रीढ़ की हड्डी के दर्द खत्म हो जाते हैं।
(6) योग मुद्रासन- बाएं पैर को उठाकर जाए जान पर इस प्रकार रखें कि पैर की एड़ी नाभी के नीचे आ जाए तथा दाएं पैर को उसके ऊपर रखें तथा दोनों हाथों को पीछे पकड़कर श्वास छोड़ते हुए जमीन पर अपने नाक लगाने का प्रयास करें।
advantage – (a) चेहरा सुंदर होता है।
(b)स्वभाव विनम्र तथा मंथन कथा एकाग्र होता है।
(7) सर्वांगासन- इस आसन में पीठ के बल लेट कर दोनों पैरों को ऊपर उठाना चाहिए तथा गर्दन के बल खड़े होने का प्रयास करना चाहिए।
advantage – (a) thiraed को सक्रिय एवं स्वस्थ करता है।
(b) मोटापा कम करता है।
(c) लंबाई में वृद्धि होती है।
(d) एड्रिनल तथा शुक्र ग्रंथि को सक्रिय करता है।
(8) अनुलोम विलोम- ध्यान के आसन में बैठकर बाय NASA छिद्र से श्वास को खींचें हैं तथा यथा शक्ति स्वाद खींचने के बाद दाएं छिद्र से छोड़ दें यह प्रक्रिया पुनः तुरंत उल्टी करनी चाहिए।
advantage – (a) शरीर की नस नाड़ियां शुरू हो जाती हैं।
(b) भूख बढ़ती है।
(c) blood शुद्ध होता है।
(d) चेहरा तेजस्वी एवं शरीर फुर्तीला बन जाता है।
(9) कपालभारती- इस आसन को ध्यान की मुद्रा में बैठकर स्वास को तेजी से बाहर होना होता है। इस प्रक्रिया में पेट फूलना और सिकोड़ना अत्यंत ही important होता है।
advantage – (a) हृदय, फेफड़े वह mind के रोग दूर हो जाते हैं।
(b) कब दमा व श्वास के रोगों में लाभ मिलता है।
(c) मोटापा ,मधुमेह वक्त भी दूर होता है।
(10) भ्रमरी आसन- इस आसन में ध्यान की मुद्रा में बैठकर अपनी तर्जनी उंगलियों को कान में डालकर ओम शब्द का उच्चारण करने के बाद नाक से भ्रमण की ध्वनि उत्पन्न करें।
advantage – (a) बाड़ी वह स्वयम मधुरता आती है।
(b) हृदय रोगों में फायदा करता है।
(c) पेट विकार दूर करता है।
(d) high blood pressure को ठीक करता है।

21 Types Of Yoga Asana – ये हैं योग के वो 21 आसन

Aaj Hum Apne friends ke lea yog ke 10 aasan aur unake advantage ko batane ja rahe hain.
(1) svastiKasan – is aasan me pnti markar dono hathon ko pair ke Ghutane par baithe hain. tatha ridh ki hadD ko sidha rakhen tatha dhyan ki mudra me baithkar jitana ho sake Apni sas ko andar ki tarf khainche. bad me Yah process pairon ko bdalkar bhi karen.
advantage – (a) pairon Ka dard dur ho jata hai.
(b) Jyada pScenea aana Band ho jata hai.
(c) pairon Ka adhik hot and cold rahna Band ho jata hai.
(2) gomukhasan – is aasan me daen pair ko modkar baen pair par is prKar rkhate hain. ki Ghutana ek sidh me aa jae. ab Ghutane ki tarf vale hath ke upar se pith ki tarf modaa tatha Dusre hath ko niche ki tarf se mode. tatha ek Dusre ko pkad kar Lagbahg 1 minute tak baithe hain. Aesa hi duSiri tarf bhi karen.
advantage – (a) dhatu rog, bahumutr tatha females ke rog me labh milata hai.
(b) gathiya jaise rog thik ho jate hain.
(c) yakrt, Gurudev vaksha sthal ko bal milata hai.
(d) aatif vrddhi tatha andakosha me growth hoti hai.

Yoga Tips in Hindi | Yogasana Tips in Hindi

(3) gorakshasan- is aasan me dono pairon ke pnjon ko aapas me milakar sionei nadi ke pass taiKa kar dhyan ki mudra me baith jaen.
advantage – (a) indriyon ki chnchalta samapt ho jati hai man ko shanti milati hai.
(b) Maasapeshiyon me blood Ka pravah Acchi tarh se Hota hai.
(c) brahmchary Kayam rkhane me bal milata hai.
(4) ardh matsyasan- is aasan me baen pair ko modkar daen pair ko Uske upar se niKal kar baithe hain. tatha baen pair ki Adi ko daen hath se pkade tatha daen hath ko pith ke pichhe se Ghumakar pichhe ki or dekhen. kisi prKar duSiri tarf se karen.
advantage – (a) madhumeh me labhKari Hota hai.
(b) kamr dard me labh Hota hai.
(c) Pet viKaron ko dur karta hai.
(d) blood snchar ko sucharu rup se chalata hai.
(5) sukhasan- is aasan me sidha pith ke bal letakar dhyan ki mudra me chale jana Hota hai. isako 3 se 5 minutes ke lea karte hain. Jyada karne par nind aane ki snbhaonea badh jati hai.
advantage – (a) man shant Hota hai.
(b) indriyon ki chnchalta khatm ho jati hai.
(c) ridh ki hadD ke dard khatm ho jate hain.
(6) yog mudrasan- baen pair ko uthaakar jae jan par is prKar rakhen ki pair ki Adi nabhi ke niche aa jae tatha daen pair ko Uske upar rakhen tatha dono hathon ko pichhe pkadkar shvas chhodte hue jMeen par Apne nak lagane Ka prayas karen.
advantage – (a) chehara Beautifull Hota hai.
(b)svabhav vinamr tatha mnthan katha eKagr Hota hai.
(7) Serveangasan- is aasan me pith ke bal leta kar dono pairon ko upar uthaana chahiey tatha gardan ke bal khade hone Ka prayas Karna chahiey.
advantage – (a) thiraed ko sakriy avm Swasth karta hai.
(b) Motapa kam karta hai.
(c) Lambhai me vrddhi hoti hai.
(d) Adrinal tatha shukr Granthi ko sakriy karta hai.
(8) anulom vilom- dhyan ke aasan me baithkar bay NASA chhidr se shvas ko khainchen hain tatha yatha shakti Swad Khinchne ke bad daen chhidr se chhod den Yah prakriya punः turnt ulti karni chahiey.
advantage – (a) sharir ki nas nadiyan shuru ho jati hain.
(b) bhukha badhti hai.
(c) blood shuddh Hota hai.
(d) chehara tejasvi avm sharir furtila ban jata hai.
(9) cupalIndiai- is aasan ko dhyan ki mudra me baithkar svas ko teji se bahar Hona Hota hai. is prakriya me Pet fulana aur sicodna atynt hi important Hota hai.
advantage – (a) hrday, fephade vah mind ke rog dur ho jate hain.
(b) kab dama v shvas ke rogon me labh milata hai.
(c) Motapa ,madhumeh vakt bhi dur Hota hai.
(10) bhrmari aasan- is aasan me dhyan ki mudra me baithkar Apni tarjani ungaliyon ko Kan me daalkar om shabd Ka uchcharan karne ke bad nak se bhramn ki dhonei utpann karen.
advantage – (a) badi vah svyam madhurata aati hai.
(b) hrday rogon me fayada karta hai.
(c) Pet viKar dur karta hai.
(d) high blood pressure ko thik karta hai.

Post Author: sandeepola9

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *